एक्ज़िम मित्र

संसद के एक अधिनियम, 1981 द्वारा स्थापित एक्ज़िम बैंक निर्यातकों और आयातकों को वित्तीय सहयोग प्रदान कर निर्यात ऋण का अगुआ रहा है। साथ ही भारत के अंतरराष्ट्रीय व्यापार को सुगम बनाने के लिए प्रमुख वित्तीय संस्थान के रूप में काम करता रहा है।

देश का व्यापार बढ़ाने और संबंधित विषयों को ध्यान में रखते हुए एक्ज़िम बैंक ने एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बनाने का सपना देखा और यह सपना साकार हुआ “एक्ज़िम मित्र” के रूप में। “एक्ज़िम मित्र” यानी निर्यातकों और आयातकों का दोस्त।

“एक्ज़िम मित्र” दो उद्देश्य पूरे करने का एक प्रयास है। एक, व्यापार से जुड़ी सूचनाएं देना और दूसरा, निर्यातकों और आयातकों तक ऋण एवं बीमा की पहुंच को सुगम बनाना।

बड़ी संख्या में ऐसे निर्यातक और आयातक हैं, जिनके पास पूरी सूचनाएं नहीं पहुंच पाती हैं। इसे ध्यान में रखते हुए ही एक्ज़िम बैंक ने “एक्ज़िम मित्र” बनाने का प्रयास किया है। यह व्यापार संभावनाओं वाले वैश्विक बाजारों और उत्पादों का पता लगाने, दुनियाभर में उत्पादों के स्तर की समझ बढ़ाने, ढुलाई की अनुमानित लागत जानने, ऋण बीमा, सहायक सेवाएं देने वाली एजेंसियों की जानकारी देने और अन्य वेल्यू एडेड सेवाओं के बारे में जानकारी प्रदान करने का प्रयास है।

इस पोर्टल पर एक ऑनलाइन आवेदन फॉर्मैट भी उपलब्ध कराया गया है, ताकि निर्यात और आयात के इच्छुक व्यक्तियों को फंडिंग अवसरों की जानकारी मिल सके।

इस पोर्टल का उद्देश्य सस्ती दरों पर वित्तीय सेवाएं और सूचनाएं प्रदान कर वित्तीय समावेशन में योगदान देना भी है।

देश के अंतरराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए भारत के कारोबारी समुदाय की जागरूकता बढ़ाना

विश्व व्यापार में भारत का हिस्सा बढ़ाना